राष्ट्रपति प्रणब मुखेर्जी ‘फेरवेल स्पीच’ मे क्या कुछ कहा

राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा की । राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मुंबई में इंडिया टुडे सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक त्वरित शिखने वालों मे से हैं और उन्होंने चीजों को उठाया हैं” ।

मुखर्जी ने कहा कि मोदी राज्य के स्तर से बाहरी व्यक्ति होने के बावजूद और सांसद के तौर पर अनुभव के बिना, वह बाहरी संबंधों और जटिल बाह्य अर्थव्यवस्था पर अधिक लाभ प्राप्त किए है । राष्ट्रपति ने कहा कि चीजों से निपटने में मोदी जी का अपना खुद का तरीका है ।

अपने भाषण के दौरान,  उन्होने इंदिरा गांधी से लेकर दिग्गज नेताओं को किया याद । राष्ट्रपति ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की प्रशंसा की और वाजपेयी से संबंधित एक घटना का वर्णन किया । उन्होंने कहा, “राज्यसभा में एक दिन, प्रधानमंत्री वाजपेयी मेरी सीट पर गए और अनुरोध किया कि कैबिनेट सहयोगी के लिए भी कठोर न हो । मुझे आश्चर्य हुआ और मेरे पास आने के बजाय,  मुझे बुला लेना चाहिए था । वह प्रधानमंत्री वाजपेयी के मुद्दों को सुलझाने का तरीका था। हमें उससे सीखना चाहिए कि आलोचकों पर कैसे जीतना है?”

राष्ट्रपति ने भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू पर भी प्रभाव का उल्लेख किया । “नेहरू का मुझ पर एक बड़ा प्रभाव था। मुझे अभी भी वह याद है जो उन्होंने कहा था, “मैं नहीं चाहता कि भारत एक व्यक्ति के लिए हां कहे” ।

अपनी अवकाशप्राप्त-जीवन की योजना को स्पष्ट करते हुए मुखर्जी ने कहा कि वह सार्वजनिक जीवन छोड़ना चाहते हैं और पश्चिम बंगाल में अपने मूल स्थान पर वापस जाना चाहते हैं । और जब तक हो सकता है तब तक अपने घर में दुर्गा पूजा का नेतृत्व करेंगें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *